January 5, 2017
पुराणों के अनुसार सृष्टि के आरंभ में ब्रह्मनाद से जब शिव प्रकट हुए तो उनके साथ ‘सत’, ‘रज’ और ‘तम’ ये तीनों गुण भी जन्मे थे। यही तीनों गुण शिव के ‘तीन शूल’ यानी ‘त्रिशूल’ कहलाए।संगीत प्रकृति के हर कण में मौजूद है। भगवान शिव को ‘संगीत का जनक’ माना जाता है। शिवमहापुराण के अनुसार

January 5, 2017
सात दिनों से मिल कर एक सप्ताह बनता है। जिसका प्रत्येक दिन किसी न किसी देवी-देवता अथवा ग्रह को समर्पित है। उस रोज उनका पूजन करने से वे अन्य दिनों में किए गए पूजन की अपेक्षा जल्दी प्रसन्न होते हैं।धन की देवी लक्ष्मी की मेहरबानी चाहते हैं, तो बिना पैसे खर्च किए हर शुक्रवार को