बाबा रामदेव की कंपनी करती है टैक्स चोरी, 6.83 लाख का नोटिस

देहरादून। बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि योगपीठ की मुश्किलें कम होती नज़र नहीं आ रही है। टैक्स चोरी के चलते कंपनी को छह लाख 83 हजार 400 रूपये का नोटिस भेजा गया है। अपर जिलाधिकारी की ओर से भेजे गए नोटिस में एक सप्ताह के भीतर जवाब देने को कहा गया है।
पतंजलि ने नोटिस न मिलने की बात कही
पतंजलि योगपीठ के प्रवक्ता एसके तिजारावाला ने आरोपों से इन्कार करते हुए इसे कांग्रेस सरकार की शरारतपूर्ण कार्रवाई करार दिया है। उनका कहना है कि अभी नोटिस प्राप्त नहीं हुआ है, मिलते ही उसका उचित जवाब दिया जाएगा।
अपर जिलाधिकारी (राजस्व) ललित नारायण मिश्र ने बताया कि नौ दिसंबर 2016 को मनोरंजन कर विभाग की नियमित जांच के दौरान पाया गया कि पतंजलि योगपीठ फेस एक में केबल टीवी के 136, योगपीठ फेस दो में 863 और योगग्राम में 140 कनेक्शन अवैध रूप से चलाए जा रहे हैं।
साथ ही यहां आकर ठहरने वाले लोगों से इसका भुगतान भी प्राप्त किया जा रहा है। इतना ही नहीं जांच में यह भी पता चला कि इन सभी जगह पर जिलाधिकारी की अनुमति के बगैर ही केबल टीवी नेटवर्क के संचालन को कंट्रोल रूम की स्थापना की गई है। साथ ही कई तरह के डिश एंटिना भी लगे पाए गए।
प्रशासनिक टीम ने इस आधार पर अपनी जांच रिपोर्ट सौंपी, जिस पर अपर जिलाधिकारी ने रामदेव की कंपनी को छह लाख 83 हजार 400 का नोटिस भेज दिया। अपर जिलाधिकारी ललित नारायण मिश्र ने बताया कि अगर एक सप्ताह के भीतर जवाब नहीं मिला तो यह मान लिया जाएगा कि उन्हें नोटिस की बातों पर कोई एतराज नहीं, फिर पतंजलि योगपीठ सहित सभी के खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।
इस मामले में पतंजलि योगपीठ के प्रवक्ता एसके तिजारावाला का कहना है कि उन्हें इस बात की सिर्फ सूचना मिली है। नोटिस अभी प्राप्त नहीं हुआ है। कहा कि यह राज्य की कांग्रेस सरकार की हमें नाजायज तंग करने की शरारतपूर्ण कार्रवाई है, जिसका नोटिस मिलने पर उचित जवाब दिया जाएगा।
बता दें कि स्वदेशी कंपनी बता कर मिलावट करते हैं। जिसके बाद रामदेव की कंपनी पर जुर्माना लग था।