मोदी कभी घाटे का सौदा नहीं करते, 75 बिलियन डॉलर लेकर आया है ये मेहमान

Untitled-7(80)

New delhi : कहावत है हर आदमी अमीर दोस्त पसंद करता है। मोदी के दोस्त मुहम्मद बिन जायद भी कुछ ऐसे ही हैं।
इस बार गणतंत्र दिवस के मुख्य अतिथि अबुधाबी के क्राउन प्रिंस शेख मुहम्मद-बिन-जाएद होंगे। खबर है कि शेख जायद भारत के कम विकसित क्षेत्र में करीब 75 बिलियन डॉलर का निवेश करेंगे।
बता दें कि भारत को अगले दस सालों में करीब 1.5 ट्रिलियन डॉलर के निवेश की जरूरत है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इस दौरान सात लाख गांव और रोड को 2019 के प्लान के मुताबिक दुरुस्त किया जाना है। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बीते साल अपने बीजिंग संबोधन में कहा था कि भारत में रोड, रेलवे, बंदरगाह और एयरपोर्ट आदि में जो विकास हुआ है वो अभी अपर्याप्त है। इन क्षेत्रों में अभी और तेजी से विकास किए जाने की आवश्यकता है। यहां तक की बैंक भी अभी इस खालेपन को भरने का कोई कारगार तरीका नहीं खोज पाए हैं।
दूसरी तरफ सरकार में प्राइवेट सेक्टर की मदद से इस खाई को भरने की मुहिम शुरू कर दी है। जिसमें विदेशी निवेश इस मामले में काफी कारगार होता साबित दिखाई पड़ रहा है।
मार्च, 2016 में केन्द्र सरकार ने अपनी इसी मुहिन को आगे बढ़ाते हुए यूनाईटेड अरब अमीरात(UAE) और भारत के बीच व्यापार की संभावनाओं को बढ़ावा देते हुए 75 बिलियन डॉलर के दीर्घ कालीन समझौते को राष्ट्रीय हित में बढ़ावा दिया।
बता दें कि शेख मुहम्मद तीसरे अरब लीडर हैं जो भारत के रिपब्लिक दिवस पर मुख्य अतिथि होंगे। इससे पहले साल 2011 में अल्जीरिय राष्ट्रपति चीफ गेस्ट थे। और साल 2001 में सऊदी के दिवंगत किंग अब्दुल्ला बिन अब्दुलअजीज अल सउद गणतंत्र दिवस के मौके पर मुख्य अतिथि के तौर पर भारत में मौजूद थे।